ये है कलयुग के राजा दशरथ जिनके लिए 3 सगी बहनों ने रखा करवा चौथ का व्रत

0
11




भारत में हर त्योहार बड़े हर्षोल्लास से मनाया जाता है.त्यौहार से भारतीय में ऊर्जावान रहने की शक्ति मिलती है.उन्हीं त्यौहार में से एक है करवा चौथ.ये व्रत विवाहित महिलाओं द्वारा उनके मगलमय जीवन और लंबी आयु के लिए रखती है.सपूर्ण भारत में यह व्रत कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चौथी तारीख को मनाया जाता है.यह व्रत पत्नियों द्वारा पति के प्रति प्रेम भाव प्रकट करने का त्यौहार है.अभी हाल ही में संपन हुए करवा चौथ में एक पति–पत्नियों एक बीच प्रेम की अजीब मिसाल सामने आई है.

जहां तीन सगी बहनों का पति एक ही इंसान है और हर साल वो तीनो बहने मिलकर अपने पति की लंबी उम्र के लिए साथ में करवा चौथ का व्रत रखती है.आपको जानकर हैरानी होगी ये तीनों बहनें बुदेनलखड विश्वविद्यालय से पोस्टग्रेजुएट है.इनके नाम शोभा,रीना,और पिंकी है.इन बहनों का कहना है कि उनका पति राजा दशरथ है और वे उनकी रानियां है.इन बहनों को अपने पति से 2–2 संताने भी है. आसपास रहने वाले एवं परिजनों का कहना है कि उन्होंने कभी तीनो बहनों के बीच झगड़ा नहीं देखा वे हमेशा खुशी से साथ रहती है और अपने पति की इज्जत करती है.सभी बहनों का मानना है कि उनको काली माता का वरदान प्राप्त है जिस से ऐसा करती है और कोई भी स्त्री चाहे तो अपने पति को भगवान के रूप में पूज सकती है.करवा चौथ के व्रत में विवाहित महिलाएं पूरा दिन भूखी प्यासी रह कर अपने पति की दीर्घायु की कामना करती है.

शायकाल में चांद नजर ना आने तक वह भोजन एवं पानी का एक कतरा भी अपने कंठ से नीचे नहीं उतरती है. विवाहित महिलाएं चांद नजर आने पर पहले चांद की पूजा करती है फिर अपने पति के हाथो से जल ग्रहण करती है.पति पत्नी के इस अटूट त्यौहार से उनके बीच प्यार इंतहा बढ़ जाता है.पत्नी द्वारा पति के लिए किए गए त्याग से उनके जीवन में सदैव खुशियां बनी रहती है.आज के जमाने में इसी कहानी काम ही देखने को मिलती है इसके बावजूद किसी के मन ईर्ष्या का भाव नहीं है अपितु अजीबो गरीब प्रेम लोगो के लिए अलग ही मिशाल बन गया है.भारत में कुछ जगह अविवाहित कन्याए भी करवा चौथ रखती है किन्तु वह सामान्य व्रत के भांति होता है कहा जाता है उनका ये व्रत उनको अच्छे पति की कामना को पूर्ण करेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here