9वीं कक्षा के छात्र ने रची अपने अपहरण की झूठी कहानी, फोन पर SMS भेज पिता से मांगी 50 लाख की फिरौती

0
10




दोस्तों आज के समय में बच्चो के बिगड़ने में बड़ो का हाथ है उतना ही आज के समय में सोशल मिडिया,फिल्मो का भी है इन के माध्यम से कोई भी अपनी कम बुध्दि से कोई भी बड़ा क्राइम कर सकता है,क्यों के इन के द्वारा ही बताया जाता है की एक सफल क्राइम कैसे कर सकते है,दोस्तों आज के समय में हमें अपने बच्चो का पूरा ख्याल रखना होगा की हमारे बच्चे किन की संगत में है या सोशल मिडिया में एक्टिव होने पर ज्यादा समय किस चीज़ को देते है,बच्चे की जो भी परेशानी हो आप उसे समझने की कोशिश करे उससे बात करे,ताकि भविष्य में वो बच्चा कोई बड़ा कदम न उठा ले दोस्तों एक क्राइम ऐसा हुआ जिसमे मेरठ जिले से एक हैरान करने वाली खबर सामने आई है, जिस सुनकर आप भी अपना सिर पकड़ लेंगे। दरअसल, नौचंदी थाना क्षेत्र निवासी ट्रांसपोर्टर का बेटा अपनी सौतेली मां की प्रताड़ना और पिता की उपेक्षा से नाराज होकर घर से भाग गया। इतना ही नहीं, उसने अपने अपहरण की झूठी कहानी भी गढ़ दी। हालांकि, पुलिस ने कथित रूप से अगवा किए गए ट्रांसपोर्टर के बेटे आरिफ को दिल्ली से मात्र 18 घंटे में सकुशल बरामद कर लिया।

क्या है पूरा मामला

आसिफ शास्त्री नगर सेक्टर-12 में रहते हैं, उनके 12 ट्रक हैं। आसिफ सोमवार (02 नवंबर) को पत्नी व छोटी बच्ची के साथ गांव गए थे। उनका बेटा आरिफ अपनी छोटी बहन के साथ घर पर था। जब शाम को दंपती वापस लौटा तो आरिफ गायब मिला। आरिफ के मोबाइल नंबर से घर के नंबर पर 50 करोड़ की फिरौती का मैसेज आया हुआ था। घर पर एक चिट्ठी भी छोड़ी गई थी। जिसके बाद घर में हड़कंप मच गया।

अपहरण की सूचना पुलिस को दी

आसिफ ने अपने बेटे आरिफ के अपहरण की सूचना मेरठ पुलिस को दी। जिसके बाद पुलिस आरिफ की तलाश में जुट गई। पुलिस ने सर्विलांस के माध्यम से 18 घंटे के भीतर ही किशोर को दिल्ली से सकुशल बरामद कर लिया।

एसएसपी अजय साहनी ने प्रेसवार्ता बताया कि आरिफ ने अपने ही परिवार से 50 लाख रुपए की फिरौती के लिए अपने ही फोन से मैसेज घरवालो को भेजा था। आरिफ ने बताया कि वो अपने पिता की उपेक्षा और सौतेली मां की प्रताड़ना से परेशान होकर अपने घर में नहीं रहना चाहता था। इसी कारण उसने खुद के किडनैप की कहानी बनाई।
फिल्म देखकर आया आइडिया

आरिफ ने कहा कि उसने सोमवार शाम अपने घर में एक कॉपी के पन्ने पर फिरौती के लिए 50 लाख रुपए देने की बात लिखी और फिर उसे घर के बाहर छोड़ दिया। इसके बाद वो अपने घर मे रखे करीब साढ़े 9 लाख रुपए की नकदी भी ले गया। आरिफ कक्षा 9 में पढ़ता था। आरिफ ने बताया कि उसे फिल्म देखकर इस तरह का प्लान बनाने का आइडिया मिला था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here