इस वजह से खराब हो गया लालू यादव का अपने साले से रिश्ता, राबड़ी राखी तक नहीं बांधती!

0
9

मामला बिगड़ा साल 2005 में, तब राजद सत्ता से बाहर हो रही थी, और लालू के बड़े बेटे ने राजनीति में आने का फैसला लिया तो लालू ने अपने सालों को किनारा करना शुरु कर दिया।

New Delhi, Nov 07 : बिहार की राजनीति में लालू परिवार की चर्चा प्रमुखता से होती है, जहां लालू खुद प्रदेश के सीएम रहे तो उनकी पत्नी राबड़ी देवी भी सीएम रही, लालू के बेटे तेजस्वी राज्य के डिप्टी सीएम रह चुके हैं, तो वहीं बड़े बेटे तेज प्रताप यादव स्वास्थ्य मंत्री की कुर्सी संभाल चुके हैं, इन सबके अलावा लालू परिवार का एक और शख्स था, जिसका 90 के दशक में जबरदस्त जलवा था, उनका नाम है अनिरुद्ध प्रसाद उर्फ साधु यादव।

राबड़ी के छोटे भाई
साधु यादव लालू के छोटे साले हैं, राबड़ी देवी के भाई साधु यादव का एक जमाने में जबरदस्त जलवा था, जब राबड़ी देवी सीएम बनीं तो साधु की ताकत चरम पर पहुंच गई थी। कभी दिन भर मुख्यमंत्री आवास पर डेरा जमाये रहने वाले साधु अब अपनी बहन के परिवार से झगड़ा कर बैठे हैं, वो खुलकर लालू परिवार के खिलाफ कई बार बयानबाजी कर चुके हैं।

कैसे बिगड़ा मामला
दरअसल मामला बिगड़ा साल 2005 में, तब राजद सत्ता से बाहर हो रही थी, और लालू के बड़े बेटे ने राजनीति में आने का फैसला लिया तो लालू ने अपने सालों को किनारा करना शुरु कर दिया। बताया जाता है कि साल 2005 में लालू ने अपने आवास की वीआईपी पार्किंग से साले सुभाष यादव की कार हटवा दी, इसके बाद 2005 विधानसभा चुनाव में साधु यादव ने अपनी पत्नी के लिये टिकट मांगा, तो लालू ने मना कर दिया, यहां से ही साधु ने बगावत कर दी, पत्नी को निर्दलीय चुनावी मैदान में उतार दिया, हालांकि वो जीत हासिल नहीं कर सकी।

राबड़ी ने राखी बांधना भी बंद किया
इस चुनाव में साधु यादव ने लालू परिवार और राजद पर जमकर हमले किये, कहा जाता है कि इसके बाद दोनों परिवारों का संबंध खराब होता चला गया, sadhu yadav1 साधु यादव ने अपनी ओर से संबंध ठीक करने की भी कोशिश की, हालांकि राबड़ी ने उनहें राखी तक बांधना बंद कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here