IAS Success Story: जूते बेचने से लेकर UPSC में 6ठी रैंक लाकर टॉप करने का सफर, जानिए पूरी कहानी

0
3

IAS Success Story– आमतौर पर हम यह देखते हैं कि यूपीएससी के परीक्षा पास करने वाले या तो प्रशासनिक फैमिली बैकग्राउंड से होते हैं या उनके माता-पिता काफ़ी शिक्षित होते हैं या फिर वह आर्थिक रूप से संपन्न होते हैं, लेकिन इसके अलावा कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जिनके पास अपनी मेहनत के अलावा और कुछ नहीं होता है, और इसी मेहनत के दम पर वे यूपीएससी फतेह कर लेते हैं।

हमारी आज की कहानी ऐसे ही एक शख़्स (Shubham Gupta) की है, जिसने आर्थिक कमजोरी और असफलताओं के बावजूद भी अपने दृढ़ संकल्प और मेहनत के बदौलत 2018 की यूपीएससी परीक्षा में 6ठा रैंक प्राप्त कर लिया।

आप शुभम गुप्ता (Shubham Gupta) के ऊपर बना ये वीडियो भी देख सकते है

शुभम गुप्ता (Shubham Gupta) का बचपन जयपुर में बीता जहाँ से उन्होंने सातवीं तक की पढ़ाई की थी। उनके पिता ने महाराष्ट्र में जूते की दुकान खोल ली जिसके कारण उनका पूरा परिवार अब महाराष्ट्र में आ गया। वहाँ पास में कोई ऐसा स्कूल नहीं मिला जो हिन्दी मीडियम में हो। इसलिए इनका और इनकी बहन का एडमिशन घर से 80 Km दूर करवाना पड़ गया। इस दूरी को ये दोनों ट्रेन से तय करते थें।

ias-shubham-gupta

घर की आर्थिक स्थिति कमजोर थी, जिस के सुधार के लिए इनके पिता ने एक और दुकान खोल दी थी, जिसको शुभम स्कूल से आने के बाद संभालते थें। उनका दिन ऐसे ही चला जाता था तो पढ़ाई के लिए शुभम रात भर जगते थें। ऐसे ही उन्होंने काफ़ी अच्छे अंकों के साथ 12वीं पास कर ली। इसके बाद उन्होंने इकोनॉमिक्स में ग्रेजुएशन किया और फिर ‘दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स’ से मास्टर्स।

उनका शुरू से ही सपना था आईएएस ऑफिसर बनने का जिसकी तैयारी उन्होंने 2015 से ही शुरू कर दी थी। शुभम को अपने पहले प्रयास में सफलता नहीं मिली। अपनी असफलता से प्रेरणा लेकर शुभम ने और ज़्यादा मेहनत के साथ दोबारा तैयारी शुरू कर दी। इस बार उन्हें 366 रैंक के साथ ‘इंडियन ऑडिट एंड अकाउंट सर्विस’ के साथ संतुष्ट होना पड़ा।

ias-shubham-gupta

शुभम (Shubham Gupta) अपने जॉब से संतुष्ट नहीं थें क्योंकि उनका सपना आईएएस ऑफिसर बनने का था। एक बार फिर उसी जुनून के साथ दोगुनी उर्जा और मेहनत के साथ उन्होंने तैयारी शुरू कर दी जिसका परिणाम यह रहा कि उन्होंने यूपीएससी को छठे रैंक के साथ टॉप कर लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here