इस साल के धनतेरस पर बना रहा है ये बेहद खास योग, होगा ये बड़ा असर!

0
3

Dhanteras 2020: देश में फेस्टिवल की सीजन चल रहा है कोरोना काल में लोग तैयारी कर रहे है। बता दें कि दीपावली पांच द‍िवसीय पर्व है जो धनतेरस से शुरू होता है और भाई दूज पर इसका समापन होता है। हालांक‍ि इस बार यह पर्व चार दिवसीय पर्व ही है जो 13 नवंबर से शुरू होगा और समापन 16 नवंबर को होगा। धनतेरस के द‍िन खरीदारी का भी बड़ा महत्व है। इस दिन पीतल के बर्तन, चांदी, सोना जैसी चीजों की खरीदी की जाती है। मान्‍यता है क‍ि इस द‍िन खरीदी गई चीजों में 13 गुणा वृद्धि होती है। वहीं इस बार तो धनतेरस का द‍िन बेहद खास है। आइए इस बारे में एस्‍ट्रॉलजर प्रमोद पांडेय से व‍िस्‍तारपूर्वक जानते हैं।

शुक्रवार का द‍िन मां लक्ष्‍मी को अत्‍यंत प्र‍िय होता है। इस बाद धनतेरस के द‍िन देवी लक्ष्‍मी का प्र‍िय द‍िन यानी क‍ि शुक्रवार तो है ही। साथ ही इस बार कुछ व‍िशेष योग भी हैं। इस बार धनतेरस के द‍िन चित्रा नक्षत्र, आयुष्मान योग तथा तुला राशि के चंद्रमा की साक्षी में आ रही है। ऐसे में धनतेरस के द‍िन आयुष्मान योग की साक्षी में धनवंतर‍ि का पूजन आरोग्यता प्रदान करने वाला माना गया है। इसके अलावा इस बार धनतेरस पर मृदु तथा मित्र संज्ञक नक्षत्र भी मौजूद रहेगा। इस नक्षत्र में सोना, चांदी, पात्र आदि की खरीदी करना भी शुभ रहेगा।

 

इस बार धनतेरस पर दो दिन खरीदारी होगी। शुभ मुहूर्त 12 नवंबर की रात्रि से 13 नवंबर की संध्या काल तक रहेगा। इस दौरान की गई खरीदारी जातक को लाभ देगी। लेक‍िन ध्‍यान रखें क‍ि लोहे से न‍िर्मित वस्तुओं की खरीदारी करने से बचें। क्‍योंक‍ि लोहा शनि का कारक माना गया है। मान्यता है कि धनतेरस पर लोहे की चीजों को खरीदने से दुर्भाग्य आता है। इसके अलावा धनतेरस के दिन चीनी मिट्टी की बनी हुई चीजों को भी नहीं खरीदना चाहिए। कहा जाता है क‍ि ऐसा करने से घर में बरकत नहीं होती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here