आम आदमी को बड़ी राहत: सरकारी ऑयल कंपनियों ने टाला LPG Cylinder से जुड़ा ये बड़ा फैसला

0
4

नई दिल्ली: देश की सरकारी ऑयल कंपनियों (Oil companies) ने 1 नवंबर 2020 से बदलने वाला रसोई गैस सिलेंडर से जुड़ा डिलीवरी ऑथेंटिकेशन कोड (Delivery Authentication Code -DAC) को फिलहाल के लिए टाल दिया है। अब इससे अगर किसी भी ग्राहक का मोबाइल नंबर गैस कनेक्शन से लिंक नहीं है तो आपको बिल्कुल भी परेशान होने की जरुरत नहीं है। बता दें करीब 30 फीसदी ग्राहकों ने पहले से ही अपने गैस कनेक्शन को मोबाइल नंबर से लिंक करा चुके हैं।

खबरों के मुताबिक, डिलीवरी ऑथेंटिकेशन कोड (Delivery Authentication Code -DAC) को फिलहाल के लिए टाल दिया गया है। इस मामले में एक सीनियर अधिकारी ने बताया ग्राहक DAC करा सकते हैं, लेकिन इसको अनिवार्य नहीं किया गया है। यानी ये ग्राहक पर निर्भर करता है।

आपको बता दें अगर किसी भी ग्राहक का मोबाइल नंबर गैस कनेक्शन से लिंक नहीं होगा तो उनको मोबाइल पर DAC नहीं आएगा। खबर के मुताबिक, कुछ टेक्निकल परेशानियों के चलते इसको अभी अनिवार्य नहीं किया गया है।

बता दें पहले कंपनियों ने एक नवंबर से दिल्ली-NCR और 100 स्मार्ट सिटी (Smart Cities) में सिलेंडर की डिलीवरी के लिए एक नवंबर से ग्राहकों को DAC कोड दिखाना जरूरी कर दिया गया था। सिर्फ DAC कोड के जरिए बुकिंग कराने पर ही आपको सिलेंडर की डिलीवरी नहीं मिलेगी। इसके लिए आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक OTP भेजा जाएगा। उस OTP को आपको डिलीवरी बॉय (delivery boy) को बताना होगा. उसके बाद में ही आपको आपका सिलेंडर मिलेगा।

वहीं अगर किसी ग्राहक का मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड नहीं है, तो वो ऐप के जरिए अपना नंबर अपडेट करवा सकते हैं। यह ऐप डिलीवरी बॉय के पास भी मौजूद रहेगा। नंबर अपडेट कराने के बाद OTP जेनरेट हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here