जम्मू-कश्मीर और हिमाचल में बर्फबारी से उत्तर भारत में पड़ी कड़ाके की ठंड, जानिए दक्षिण किसका खतरा मंडराया

0
12

उत्तर भारत के कई हिस्सों में ठंड बढ़ गई है. जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में मंगलवार को ताजा बर्फबारी हुई, जबकि तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश पर चक्रवात निवार का खतरा मंडरा रहा है, जिसके बुधवार देर शाम तटीय क्षेत्रों में भयंकर चक्रवाती तूफान के रूप में पहुंचने की आशंका है.

आपको बता दें कि हिमाचल प्रदेश में ऊंचाई वाले कई क्षेत्रों में पिछले 24 घंटों में ताजा बर्फबारी हुई. शिमला मौसम विभाग केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि कल्पा में 9.6 सेंटीमीटर, खादराला में छह सेंटीमीटर, केलांग में तीन सेंटीमीटर और शिल्लारी में एक सेंटीमीटर हिमपात हुआ. मौसम कार्यालय ने 25 नवंबर को हिमाचल प्रदेश के लिए भारी बारिश और बर्फबारी को लेकर ‘येलो’ अलर्ट जारी की है.

बता दें कि वहीं, जम्मू-कश्मीर के अधिकारियों ने बताया कि पदरी गली और छात्तेरगाला दर्रों के पास बर्फबारी के कारण केन्द्रशासित प्रदेश के डोडा जिले को हिमाचल प्रदेश और पंजाब से जोड़ने वाले भद्रवाह-चम्बा और भद्रवाह-पठानकोट राजमार्ग बंद हो गए हैं. भद्रवाह के अधिकारियों ने बताया कि खानी टाप और खुंडी मराल के बीच 22 किलोमीटर के इलाके में पिछले 24 घंटों में 1.5 से 2 फुट बर्फ गिरने के बाद भद्रवाह-चम्बा मार्ग वाहनों के लिए बंद हो गया है.

इस बीच, भारत मौसम विज्ञान विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने मंगलवार को कहा कि बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना गहरे दबाव का क्षेत्र चक्रवात ‘निवार’ में परिवर्तित हो गया है और इसके बुधवार को भारी तूफान के रूप में तमिलनाडु और पुडुचेरी के तट से टकराने की आशंका है.

तूफान के मद्देनजर तमिलनाडु और पड़ोसी केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी के प्रशासन को अलर्ट पर रखा गया है और असुरक्षित इलाकों से लोगों को निकालने सहित एहतियाती उपाय सरकार की तरफ से किए जा रहे हैं. मौसम विभाग ने मंगलवार को बताया कि ‘निवार’ बुधवार को चेन्नई से 50 किलोमीटर दूर राज्य के मामल्लापुरम और पुडुचेरी के कराइकल तट से बुधवार देर शाम भारी तूफान के रूप में टकरा सकता है और इस दौरान 100 से 110 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती है, जिसकी गति 120 किलोमीटर प्रति घंटे तक जा सकती है.

विभाग ने कहा कि बुधवार को तूफान के प्रभाव से तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल के ज्यादातर हिस्सों में बारिश हो सकती है. कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश भी हो सकती है. वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी और पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी से बातचीत कर हालात की जानकारी ली और केंद्र से हर संभव मदद का भरोसा दिया.

आपको बता दें कि तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और पुडुचेरी में ‘‘अत्यंत गंभीर चक्रवाती तूफान‘‘ ‘निवार’ के मद्देनजर राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के करीब 1,200 बचावकर्मियों को तैनात किया गया है और 800 अन्य को तैयार रखा गया है. एनडीआरएफ प्रमुख एस एन प्रधान ने कहा कि वे ‘‘अत्यधिक तीव्रता वाले एवं सबसे भीषण’’ चक्रवाती तूफान के लिए तैयार हैं. यह तूफान पश्चिम बंगाल से दक्षिणी तटरेखा की ओर बढ़ रहा है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here