एक शोध में सामने आया खसरा का टीका कोरोना के इलाज में कारगर साबित होगा

0
13

अमेरिका में हुए एक शोध के मुताबिक खसरा, कंठमाला और रुबेला का टीका (एमएमआर टीका) कोविड-19 से बचाव में कारगर हो सकता है। आपको बता दें कि एमबायो जर्नल में छपे इस शोध के मुताबिक जिन कोविड मरीजो को एमएमआर का टीका लगाया गया था उनमें ठीक होने के बाद कंठमाला के आईजीजी एंटीबॉडी की मात्रा अधिक मिली। इससे साबित होता है कि एमएमआर टीके से शरीर में ऐसी एंटीबॉडी बनते हैं जो कि कोविड-19 के उपचार में कारगर हैं और इस वायरस को बढ़ने से रोकते हैं।
जॉर्जिया स्थित विश्व संगठन के अध्यक्ष और शोध के प्रमुख लेखक जेफरी ई गोल्ड के मुताबिक कंठमाला का टीके कोविड-19 वायरस की रोकथाम में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। उन्होंने कहा, शोध के नतीजों से स्पष्ट होता है कि वयस्कों की तुलना में बच्चों के कोरोना की चपेट में आने का खतरा कम क्यों होता है।
दरअसल अधिकतर बच्चों को 12 से 15 महीने के भीतर एमएमआर का पहला और चार से छह वर्ष की उम्र में दूसरा टीका लग जाता है। शोध में 80 मरीजों को दो गुटों में बांटा गया। इसमें एक गुट में 50 लोग थे जिन्हें एमएमआर का दूसरा टीका लग चुका था। वहीं शेष 30 मरीजो को एमएमआर टीका नहीं लगा था। शोध में पाया गया कि जिन मरीजों को एमएमआर का दूसरा टीका लगा था वे जल्द ठीक हुए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here