28 नवंबर को है बैकुंठ चतुर्दशी, भगवान शिव से है एक खास संबंध, जानें शुभ मुहूर्त पूजा विधि और महत्व

0
15

आने वाली 28 नवंबर को बैकुंठ चतुर्दशी है, इस दिन का बहुत ही महत्‍व है । विषणु पूजा के साथ ये दिन भगवान शिव से भी संबंधित है । आगे पढ़ें, इस दिन का शुभ मुहूर्त पूजा विधि और महत्व ।

New Delhi, Nov 26: हिन्दू पंचांग के अनुसार, बैकुंठ चतुर्दशी हर वर्ष कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है । मान्यता है कि जो भी भकत जन इस दिन भगवान विष्णु जी की सच्‍चे मन से पूजा करते है और व्रत आदि रखते हैं, उन्हें बैकुंठधाम की प्राप्ति होती है । इस बार बैकुंठ चतुर्दशी कब है, क्‍या इसकी पूजा के लिए शुभ मुहूर्त रहेगा, आगे जानें ।

शुभ मुहूर्त
हिंदू पंचांग के अनुसार बैकुंठ चतुर्दशी इस बार 28 नवंबर vishnu (2) यानी कि शनिवार को है । चतुर्दशी तिथि का आरंभ – 28 नवंबर को प्रातः 10 बजकर 22 मिनट पर होगा, चतुर्दशी तिथि का समापन – 29 नवंबर को दोपहर बाद होगा । बैकुंठ चतुर्दशी का निशिथ काल – रात 11 बजकर 42 मिनट से 12 बजकर 37 मिनट तक है । निशिथ काल की कुल अवधि 55 मिनट तक रहेगी ।

बैकुंठ चतुर्दशी की पूजा विधि
बैकुंठ चतुर्दशी के दिन व्रत – पूजा करने वाले जातक विष्‍णु पूजा का संकल्‍प करते हैं । प्रातःकाल में नित्यकर्म स्नानादि करके स्वच्छ वस्त्र धारण कर विष्णु भगवान का पूजन करके व्रत का संकल्प लें । संध्‍या काल में 108 कमल पुष्पों के साथ विष्णु भगवान का पूजन करें । इसी के साथ, शिव भगवान का भी विधि-विधान से पूजन करना आवश्‍यक है । प्रातः काल भगवान शिव का पूजन कर जरूरतमंद लोगों को भोजन कराकर व्रत का पारण करें ।

क्‍या है महत्‍व ?
बैकुंठ चतुर्दशी के नाम से ही स्‍पष्‍ट है कि व्‍यक्ति को इस ये व्रत करने से बैकुंठ की प्राप्ति होती है । इस दिन का विशेष महत्व बताया गया है । मान्‍यता है कि इस दिन भगवान शिव और विष्णु भगवान की पूजा करने से जातक के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं । शास्‍त्रों – पुराणों में कहा गया है कि इसी दिन भगवान शिव ने विष्णु भगवान को सुदर्शन चक्र दिया था । ऐसी मान्‍यता है कि इस दिन जिस व्यक्ति का देहावसान होता है उसे सीधे स्वर्गलोक की प्राप्ति होती है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here