खांसी में नहीं मिल रहा आराम नहीं-गला करता है खिच-खिच, कारण और बचाव अभी जानिए

0
10

कई बार गले में टॉन्सिल भी परेशानी का कारण बनते हैं । इम्यूनिटी कमजोर होने पर गला खराब होने की समस्‍या सबसे पहले हाती है ।

New Delhi, Nov 26: कोरोना की महामारी और सर्दी में बैक्टीरियल इंफेक्शन की संभावना के बीच जरूरी है ये जानना कि नाक, कान और गले का ठीक रहना शरीर के लिए कितना जरूरी है । शरीर के ये तीनों अंग बहुत ही अहम हैं, सूंघने, सुनने और बोलने के लिए जरूरी इन अंगों का खास बचाव आवश्‍यक है । ऐसे में क्‍या सावधानियां रखनी चाहिए, कब डॉक्‍टर से जरूर मिलना चाहिए आगे जानें सारी जानकारी ।

सावधानी जरूरी है, लापरवाही ना करें
डॉक्‍टर्स के मुताबिक नाक और गला हमारे पूरे शरीर का प्रवेश द्वार हैं । वायरल इंफेक्शन की स्थिति में इंसान को गले में दर्द, खाना खाने में परेशानी से लेकर जुकाम या फीवर की समस्या हो सकती है । अगर ये समस्या 2-4 दिन में ठीक न हो तो आपको डॉक्‍टर के पास जाना चाहिए, लेकिन अगर यही प्रॉब्‍लम लंबे समय तक रहे तो ENT स्पेशलिस्ट की मदद लें ।

समस्‍या का कारण
इन प्रॉब्‍लम्‍स के लिए प्रदूषण से लेकर खराब लाइफस्टाइल भी जिम्‍मेदार है । तंबाकू, पान मसाला, स्‍मोकिंग और शराब जैसी चीजें तो कैंसर तक का कारण बन सकती है । डॉक्‍टर्स के मुताबिक पान-मसाला खाने से म्यूकस फाइब्रोसिस नाम की बीमारी हो सकती है, इसमें इंसान का मुंह तक खुलना बंद हो जाता है । गले की परेशानी का कारण पेट के रिफल्क्स एसिड भी हो सकते हैं । कई बार गले में टॉन्सिल भी परेशानी का कारण बनते हैं । इम्यूनिटी कमजोर होने पर गला खराब होने की समस्‍या सबसे पहले हाती है ।

घरेलु उपाय
डॉक्‍टर्स के मुताबिक कान-नाक-गला सब ठीक रहे इसके लिए घरेलू नुस्खे भी अपनाए जा सकते हैं । इसके लिए खुद का ध्‍यान रखना जरूरी है, भोजन करने के बाद सोने के बीच ढाई से तीन घंटे का अंतर रखें । सोने से पहले हल्का खाना ही खाएं । पूरे दिन में 3 बार पेट भर खाने की बजाए 4 से 5 बार हल्का भोजन ले सकते हैं । खाना खाने के बाद गुनगुने पानी से गरारा करें । मसालेदार-तली भुनी चीजों का सेवन कम करें ।

जिन चीजों से एलर्जी हो उनका सेवन ना करें
डॉक्‍टर्स के मुताबिक हर व्‍यक्ति का शरीर अलग होता है, उनकी फूड हैबिट्स अलग होती हैं । इसी वजह से सबके लिए सब चीज सही हो ये जरूरी नहीं है । जैसे कई लोगों को चावल, दही और छाछ जैसी ठंडी चीजों से दिक्‍कत होती है, लेकिन कई लोग इन्‍हें खाकर भी स्‍वस्‍थ रहते हैं । इसीलिए व्‍यक्ति को सिर्फ वही चीजें खाने में अवॉइड करनी चाहिए, जिनसे बॉडी को एलर्जी हो । बाकी खाना खाएं, लेकिन ओवरईटिंग ना करें ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here