सीएम योगी के ऐतिहासिक फैसला: लव जिहाद पर कानून और अयोध्या एयरपोर्ट का नाम ‘मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम’

0
16

उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल की बैठक में आज योगी कैबिनेट ने एक बड़ा फैसला लिया है। दरअसल, अयोध्या में बन रहे एयरपोर्ट का नाम अब मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम एयरपोर्ट होगा। एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का दर्जा दिलाया जाएगा। योगी कैबिनेट ने मंगलवार को अयोध्या एयरपोर्ट का नामकरण करने और उसे अंतरराष्ट्रीय दर्जा दिलाने के लिए नागर विमानन मंत्रालय को प्रस्ताव भेजने की मंजूरी दे दी। 

इसके साथ ही अयोध्या एयरपोर्ट का नाम बदलने के संबंध में विधानसभा में पारित करने के लिए प्रस्तावित संकल्प के आलेख को भी अनुमोदित कर दिया गया है। अब मंत्री परिषद की तरफ से अनुमोदित इस संकल्प को विधानसभा से पारित कराकर प्रस्ताव नागर विमानन मंत्रालय को भेजा जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की घोसणा

प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने बताया:-

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 6 नवंबर 2018 को अयोध्या में हवाई अड्डा बनाने की घोषणा की थी। इस हवाई अड्डे को अंतरराष्ट्रीय स्तर का बनाया जाएगा। वहां पहले चरण में ए-321 और द्वितीय चरण में बी-777 जैसे विमानों के संचालन के लिए हवाई पट्टी का विस्तार किया जाएगा। इस एयरपोर्ट का इंटरनेशनल लेवल का बनाया जाएगा। इसके लिए भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण 600 एकड़ जमीन उपलब्ध कराई जाएगी।

‘लव जिहाद’ के खिलाफ कानून पर भी लगी अंतिम मुहर

आज योगी कैबिनेट ने राज्य में ‘लव जिहाद’ (Love Jihad) के खिलाफ कानून लाने पर भी अंतिम मुहर लगा दी। उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल ने विवाह के लिए अवैध धर्मांतरण रोधी कानून के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

योगी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह के अनुसार, राज्य में शादी के लिए धोखाधड़ी कर धर्मांतरण किए जाने की घटनाओं पर रोक लगाने संबंधी कानून के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है। अब शादी के नाम पर धर्म परिवर्तन अवैध घोषित कर दिया गया है। अगर कोई भी ग्रुप धर्म परिवर्तन कराता है तो उसे 3 से 10 साल की सजा होगी।

मुख्यमंत्री की फ्लीट में शामिल होंगी 13 नई गाडियां

मीडिया रिपोर्ट्स के आधार पर, बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री की सुरक्षा के मद्देनजर उनकी फ्लीट में शामिल पुराने वाहनों के स्थान पर आठ नई स्कार्पियो और 5 आयशर वाहन शामिल किए जाएंगे। कैबिनेट ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इस वाहनों को खरीदने में 2 करोड़ 36 लाख 69 हजार रुपये खर्च होंगे।

वंही राजभवन में खटारा हो चुकी अंबेसडर कार की जगह अब ऑडी प्रीमियम लेगी। अंबेसडर कार मार्च 2010 में 4.80 लाख रुपये में खरीदी गई थी। यह गाड़ी लगभग डेढ़ लाख किमी चल चुकी है और सात साल में इसकी मरम्मत में 5.33 लाख रुपये खर्च हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here