पाकिस्तान ने खेला खेल करतारपुर गुरुद्वारे के रखरखाव की जिम्मेदारी सिखों से छीनी, क्या है मंशा , जानें

0
4

पाकिस्तान की इमरान खान सरकार द्वारा करतारपुर गुरुद्वारे का रख-रखाव पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी से छीन कर ETPB (Evacuee Trust Property Board) को दे गया है. इस बोर्ड की प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट में कुल 9 सदस्य हैं, लेकिन उनमें एक भी सिख नहीं है. दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी और पंजाब के अकाली दल के नेताओं द्वारा इसका कड़ा विरोध किया गया है.

आपको बता दें कि अकाली दल के नेता और दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने पाकिस्तान सरकार के फैसले पर कड़ा एतराज दर्ज करवाया है. सिरसा ने कहा, “पाकिस्तान ने इस तरह के हमले बार-बार किए हैं लेकिन इस हमले को हम किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं करेंगें. आज ही हम इस विषय पर विदेश मंत्रालय का ध्यान दिलाएंगे.”

ETPB के 9 सदस्यों के नाम और पद

ETPB में मुहम्मद तारिक खान, एएस श्राइन, ईटीपीबी मुख्य कार्यकारी अधिकारी ओपीएस (अतिरिक्त प्रभार) के रूप में; अब्दुल्ला आवा, सहायक सचिव उप सचिव Admn/वित्त OPS; हैदर मुख़्तार, लेखाकार; सहायक लेखा अधिकारी के रूप में ईटीपीबी; अहसान खान, एएसओ, सुरक्षा अधिकारी के रूप में ईटीपीबी; हैदर ऑल बंगश, कंप्यूटर ऑपरेटर, ईटीपीबी; खुश्नुद शौकत, यूडीसी (सर्वेक्षण), ईटीपीबी; अरशद गुइजर, एलडीसी (लेखा), ईटीपीबी; आदिल अली, नायब क़ासिद, ईटीपीबी और तनवीर अहमद, ड्राइवर, ईटीपीबी हैं.

गुरुद्वारे के जरिए व्यापार करने की योजना

दरअसल, पाकिस्तान सरकार आने वाले समय में गुरुद्वारे के जरिए व्यापार करने की योजना बना रही है. इमरान सरकार की ओर इस संबंध में एक आदेश में जारी किया गया है, जिसमें व्यापार से जुड़े पूरे प्लान का जिक्र है. पाक सरकार गुरुद्वारे के जरिए पैसा कमाने की जुगत लगा रही है.

गुरुनानक देव का निवास स्थान

आपको बता दें कि सिखों  के पवित्र स्थल में से एक करतारपुर साहिब को गुरुनानक देव का निवास स्थान बताया जाता है. पाकिस्तान में पड़ने वाले इस स्थान पर ही गुरुनानक देव ने अपनी अंतिम सांसें ली थीं. पहले सिख श्रद्धालु दूरबीन के जरिए करतारपुर गुरुद्वारे का दर्शन करते थे, लेकिन भारत और पाकिस्तान सरकार ने मिलकर कॉरिडोर बना दिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here