अर्नब गोस्वामी को कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा, जोर-जबरदस्ती करने के सभी आरोप किए खारिज

0
13

मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को टीरियर डिजाइनर को खुदखुशी के लिए उकसाने के मामले को लेकर गिरफ्तार कर लिया है. ऐसे में अलीबाग कोर्ट ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

अर्नब गोस्वामी के लगाए जोर-ज़बरदस्ती के इलज़ाम को भी कोर्ट ने खारिज कर दिया है और कोर्ट ने उन्हें और अन्य दो आरोपियों को हिरासत में रखने की बात कही और साथ ही उन्हें कोर्ट के अंदर फ़ोन का इस्तेमाल करने, कार्यवाई का लाइव वीडियो बनाने को लेकर डांट भी लगाई.

बता दें, अर्नब गोस्वामी पर महिला पुलिस के साथ मारपीट करने के आरोप में एक और FIR दर्ज हुई है. जब पुलिस उनके घर गिरफ्तारी के लिए पहुंची तब उन्होंने महिला पुलिस से मारपीट की. उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 353, 504 और 34 के तहत एनएम जोशी पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज हुई.

IMAGE SOURCE: TimesOfIndia

अर्नब को न्यायिक हिरासत में भेजने के बाद उनके वकील ने ज़मानत याचिका दाखिल की. गोस्वामी के वकील, आबाद पोंडा ने बताया कि कोर्ट ने पुलिस से अपना जवाब दाखिल करने को कहा है. इस मामले की अगली सुनवाई गुरूवार को होगी. पोंडा ने बताया, अदालत ने अर्नब को हिरासत में लेकर किसी भी तरीकी की पूछताछ करने से मना किया है.

वरिष्ठ पत्रकार अर्नब को 2018 के मामले को लेकर गिरफ्तार किया गया है. दरअसल, 2018 में इंटीरियर डिजायनर अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद नाईक ने अलीबाग के अपने घर में आत्महत्या की थी और उन दोनों ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा, जिस पर उन्होंने अपनी मौत के लिए तीन लोगों को ज़िम्मेदार ठहराया था. उनमे से एक नाम अर्नब गोस्वामी का भी था.

अर्नब पर आरोप था कि उन्होंने अपने दफ्तर का काम करवाने के बाद 83 लाख रूपए नहीं दिए. यह केस ज़्यादा लम्बा नहीं चल पाया. पुलिस ने जांच की मगर कोई सबूत न मिलने पर केस को बंद कर दिया गया. सरकार बदल जाने पर परिवार वालो ने यह केस री-ओपन करवाया, केस को ग्रहमंत्री अनिल देशमुख ने सीआईडी को सौंपा, जिसके चलते अर्नब को गिरफ्तार कर लिया गया.

IMAGE SOURCE: TheIndianExpress

इस केस को लेकर जहां कांग्रेस, NCP और शिवसेना इन्साफ की लड़ाई लड़ रहे हैं वहीं बीजेपी इसे तानाशाही का नाम दे रही है. उनका आरोप है कि सुशांत मामले को लेकर अर्नब ने जिस तरह से मुंबई पुलिस और ठाकरे सरकार को घेरा था, उसी के बदले की भावना से सरकार यह कार्यवाई कर रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here