IIT मद्रास से आई बेहद बुरी खबर, सभी विभाग, केंद्र और लाइब्रेरी अगले आदेश के लिए बंद, जानिए क्यों

0
7

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी)-मद्रास हाल के दिनों में 66 छात्रों समेत 71 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद नए कोविड-19 हॉटस्पॉट के रूप में उभर कर सामने आया है। इसके कारण प्रबंधन को सभी विभागों को बंद करना पड़ा है। आईआईटी-एम के प्रबंधन ने सोमवार को सभी छात्रों को कोरोना जांच कराने को कहा है और यदि कोई छात्र कोरोना संक्रमित पाया जाता है तो उसे क्वारंटीन में भेजा जाएगा।

संस्थान की ओर से जारी एक सर्कुलर में कहा गया है कि सभी विभाग, केंद्रों और लाइब्रेरी को तत्काल प्रभाव से अगले आदेश तक के लिए बंद कर दिया गया है। इस सर्कुलर में सभी संकाय सदस्यों, परियोजना स्टाफ सदस्यों और शोधकर्ताओं को घर से काम करने की सलाह दी गई, जबकि छात्रों, विद्वानों और परियोजना स्टाफ सदस्यों को परिसर में और अपने छात्रावास के कमरों में खुद को सीमित रखने को भी कहा गया है। आईआईटी-एम ने कहा कि छात्रावासों में केवल 10 प्रतिशत छात्रों को रखा जा रहा हैं और जैसे ही कोरोना मामलों में तेजी की सूचना मिली, उन्होंने छात्रावास के सभी छात्रों को नागरिक अधिकारियों के परामर्श के बाद जांच कराने की व्यवस्था की।

आईआईटी-एम की मौजूदा गतिविधियों को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य सचिव जे राधाकृष्णन सभी जिलाधिकारियों और चेन्नई महानगर निगम के आयुक्त को सभी शैक्षणिक संस्थानों और हॉस्टलों पर निगरानी रखने को कहा है। सभी शैक्षणिक संस्थान और हॉस्टल आठ माह से अधिक समय तक बंद रहने के बाद हाल ही में खोले गये हैं। राधाकृष्णन ने कहा कि हल्के लक्षणों वाले तथा दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों पर सख्ती से निगरानी रखी जाय, उनकी समुचित जांच की जाय तथा किसी के संक्रमित पाये जाने पर उसे आइसोलेट किया जाय। आईआईटी-एम की मौजूदा स्थिति की समीक्षा करने के बाद स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि संस्थान में संक्रमित पाये गये सभी लोगों की हालत स्थिर है तथा उन सभी का गुइंडी स्थित सरकारी कोरोना अस्पताल में इलाज किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि एक दिसंबर से कोरोना के छिटपुट मामले सामने आ रहे थे लेकिन पिछले तीन-चार दिनों में काफी तेजी से नये मामले सामने आये हैं। उन्होंने कहा कि संस्थान में अब तक 277 लोगों की जांच करायी गयी है जिनमें 66 छात्र, मेस के चार कर्मचारी तथा आवासीय परिसर में एक अन्य व्यक्ति कोरोना से संक्रमित पाया गया हैं। उन्होंने कहा कि एक से 10 दिसंबर तक 16 लोग कोरोना से संक्रमित पाये गये जबकि शुक्रवार को 11 मामले, शनिवार को 12 तथा रविवार को सबसे अधिक 32 लोग कोरोना से संक्रमित पाये गये। संस्थान के कुल नौ हॉस्टलों एवं एक गेस्ट हाउस में से दो हॉस्टलों में सबसे अधिक कोरोना मामले सामने आये हैं।

अधिकारियों ने कहा कि मेस को नौ दिसंबर को ही बंद कर दिया गया था तथा इसके स्थान पर नये कैटरिंग प्रदाता का इंतजाम किया गया है। और छात्रों के संक्रमित पाये जाने के कारण 10 दिसंबर से डाइनिंग हॉल को भी बंद कर दिया गया तथा हॉस्टल के कमरों में पैकेट में भोजन आपूर्ति की व्यवस्था की गयी है। गौरतलब है कि तमिलनाडु में सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 10,115 रह गयी है तथा अभी तक 11,895 लोगों की मौत हुई है। राज्य में अब तक 7.76 लाख से अधिक लोग संक्रमण मुक्त हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here